अतिथि अध्यापकों ने की श्रद्धाजंलि सभा

196
2008 गोलीकांड में शहीद राजरानी को किया  याद
यमुनानगर। हरियाणा अतिथि अध्यापक संघ के आहवान पर शुक्रवार को नेहरू पार्क में शहीद राजरानी का श्रद्धांजलि दिवस प्रदेश  वरिष्ठ उप प्रधान सतपाल शर्मा एवम तालमेल कमेटी के सदस्य सन्त कुमार की अध्यक्षता में मनाया गया। सतपाल शर्मा ने बताया कि 7 सितंबर 2008 को हरियाणा के अतिथि अध्यापक रोहतक में अपने हकों की लड़ाई के लिए शान्तिपूर्वक ढंग से प्रदर्शन कर रहे थे लेकिन उस समय की मौजूदा सरकार के इशारों पर पुलिस प्रशासन ने जलियावाला बाग की तरह निहत्थे, शान्तिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे अतिथि अध्यापकों पर बर्बरता पूर्वक लाठी एवं गोलियां चलाई गई। जिसमें बहन राजरानी की पुलिस की गोलियों से मौके पर ही मौत हो गई थी। शुक्रवार को राजरानी की मौत पर दो मिनट का मौन धारण किया और उन्हें श्रद्धांजलि दी।
सन्त कुमार ने कहा कि प्रदेश के सरकारी स्कूलों में अध्यापकों की कमी के कारण शिक्षा का ढांचा बहुत ही खराब था। जिसके कारण सरकार ने एक पॉलिसी के तहत वर्ष 2005-2006 में प्रदेश के सरकारी स्कूलों में अतिथि अध्यापकों की नियुक्ति की थी। अतिथि अध्यापकों की नियुक्ति के बाद प्रदेश के सभी सरकारी स्कूलों में शिक्षा का काफी सुधार हुआ और परीक्षा परिणाम भी अच्छे आ रहे हैं। इस बात को सरकार ने भी स्वीकार किया है लेकिन वह अतिथि अध्यापकों की कोई सुध नहीं ले रही। जसबीर  ने कहा कि मौजूदा भाजपा सरकार में शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा ने दिल्ली के जंतर-मंतर पर अतिथि अध्यापकों के धरने में वायदा किया था कि प्रदेश में उनकी सरकार बनने पर सभी अतिथि अध्यापकों को एक कलम से पक्का किया जाएगा लेकिन सरकार को सत्ता में आए हुए 4 वर्ष का समय हो गया है लेकिन सरकार को वह कलम नहीं मिली जिससे अध्यापकों को पक्का किया जा सके। जिला प्रधान अशवनी कुमार ने कहा कि जब तक पॉलिसी तैयार करे तब तक अतिथि अध्यापकों को समान काम समान वेतन मान दिया जाए अगर सरकार ने ऐसा नहीं किया तो वे जल्द ही प्रदेश भर कि कार्यकारिणी की बैठक लेकर आर-पार की लड़ाई का ऐलान करेंगे। राजेश धनखड़ एवम जगपाल ने बताया कि 10 सितंबर को सर्वकर्मचारी संघ द्वारा किए जा रहे विधानसभा घेराव में प्रदेश के अतिथि अध्यापक बढ़चढ़ कर भाग लेंगे। बैठक में जग्दीप भूषन, मुकेश, अनिल जटियांन, प्रवेश, योगेश समेत अनेक अध्यापक मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here