आत्मिक शक्ति कर देती है संसार के कठिन कार्य को आसान: पण्‍डित शीलचंद

11

यमुनानगर।  सावनपुरी स्नेह निवास पर संगीतमय धर्म सभा का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का संचालन पण्‍डित शील चंद ने किया तथा अध्यक्षता गिरीराज स्वरूप ने। सतेन्द्र जैन व भारत गर्ग विशिष्ठ अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। कार्यक्रम का शुभार भ भक्तामर पाठ के वाचन किया गया, तत्पश्चात धार्मिक भजन संध्या की गई। हस्तिनापुर से आये गायक भोला एण्ड पार्टी ने अपने मधुर गीतों व भजनों से श्रद्धालुओं का मन मोह लिया। स्नेहलता ने बताया कि धार्मिक कार्यक्रमों के आयोजन से समाज में एकता व अखण्डता का भाव उत्पन्न होता है और आपसी प्रेम बढ़ता है। उन्होंने आगे बताया कि हमें इन कार्यक्रमों में अधिक से अधिक भाग लेना चाहिये, क्योंकि धार्मिक कार्यक्रमों में भाग लेने से बच्चों व युवा वर्ग में अच्छे संस्कार पैदा होते है, जिससे समाज स्वर्णिम भविष्य के साथ तैयार होता है। अच्छे संस्कारों की मदत से जीवन में आने वाली बुराई से बचा जा सकता है, जिससे अर्थिक व सामाजिक  सपन्नता आती है। पं. शील चंद जैन ने भक्तामर महिमा का महत्व बताते हुये कहा कि इसका एक-एक छंद के अध्धयन जीवन में आने वाले कष्टों, बीमारियों व अन्य व्यवधान से बचा जा सकता है। इससे मानव अज्ञान से ज्ञान की ओर बढ़ता है और कष्ठमय जीवन से बच जाता है। उन्होंने आगे कहा कि मनुष्य के अंदर आपार शक्ति है, लेकिन कोई कोई ही इस शक्ति को पहचान पाता है, क्योंकि वह परिवार के पालन पोषण में ही सारा जीवन व्यतीत कर देता है, और अंतर आत्मा की शक्ति को नहीं पहचान पाता। आत्मिक शक्ति संसार के कठिन से कठिन कार्य को सरल कर देती है। इसको पहचानने के लिये ज्ञान रूपी, विवेक रूपी आंखों की आवश्यक्ता है। कार्यक्रम में समाज के गणमान्य व्यक्ति व महिलायें उपस्थित रही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here