अखिल भारतीय विश्‍वास संगीत प्रतियोगिता के दूसरे दिन 40 प्रतिभागियों ने किया प्रदर्शन

16

लोगों का मन मोहने की कूंजी है संगीत- डा. नयन
यमुनानगर। विश्वास संगीत महोत्सव का शुभारंभ विश्वास संगीत समिति स्थानीय शाखा द्वारा आयोजित किये जा रहे अखिल भारतीय विश्वास संगीत प्रतियोगिता के दूसरे दिन सीनियर वर्ग प्रतियोगिता का प्रदर्शन किया, जिसमें प्रतिभागियों ने गायन, तंत्रवाद्य, तालवाद्य, सुगम संगीत एवं. नृत्य के माध्यम से अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता विमल कश्यप ने की तथा संचालन डा. अंबिका कश्यप ने किया। मुख्‍य अतिथि के रूप में साहित्यकार डा. कंवल नयन कपूर उपस्थित रहे। डाॅ अंबिका कश्यप ने बताया कि कार्यक्रम के दूसरे दिन लगभग 40 प्रतिभागियों ने विभिन्न क्षेत्रों से आ कर सीनिसर विंग मेें अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। प्रतिभागियों ने तबला, बांसुरी, गजल, संतूर, वॉयलन, हारमोनियम आदि की प्रदर्शन बड़े ही बखूबी से किया। उन्होंने आगे बताया कि निर्णायक मण्डल में पं. सुशील जैन, मिलन देबनाथ, डा. हरविन्द्र शर्मा, डा. नीरा शर्मा ने बच्चों की प्रतिभा का आंकलन किया। मुख्‍य अतिथि ने संबोधित करते हुये कहा कि संगीत की कला सबसे उच्च कलाओं ने से एक है। संगीत वह कूंजी है, जिससे लोगों का मन मोहा जा सकता है और अपनी अलग पहचान बनाई जा सकती है। उन्होंने कहा कि शास्त्रीय संगीत भारत की धरोहर है और इसे संजो कर रखना हमारी जिम्‍मेदारी है, इस जिम्‍मेदारी को निभाते हुये संस्था द्वारा किये जा रहे प्रयास सराहनीय है। संस्था के इनके प्रयासों की बदौलत बच्चों में के मन में शास्त्रीय संगीत के प्रति रूची तो उत्पन्न हो ही रही है। उन्होंने कहा कि इस प्रकार के आयोजनों में प्रदर्शन करने से बच्चों के मनोबल बढ़ता और उनकों उज्जवल भविष्य मिलता है। इस अवसर पर भारी संख्‍या में संगीत प्रेमी उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here