न्यू हैप्पी पब्लिक स्कूल के विद्यार्थियों ने स्वतंत्राता दिवस समारोह में दी शानदार प्रस्तुति

38
अखंड भारत की रक्षा हमारा कर्तव्य : डॉ बिदु शर्मा
न्यू हैप्पी पब्लिक स्कूल यमुनानगर के विद्यार्थियों ने स्वतंत्रता दिवस पर शानदार प्रस्तुति में जीत हासिलकर विद्यालय का एवं जिले का नाम रोशन किया। तेजली ग्राउंड में आयोजित स्वतंत्राता दिवस के अवसर पर आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम के अवसर पर मुख्यअतिथि राज्यपाल श्री कप्तान सिंह सोलंकी के साथ पुलिस अध्ीक्षक, जिला उपायुक्त, आई.जी., जिला शिक्षा अध्किारी एवं अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे। मुख्य अतिथि ने झंडा पफहराकर कार्यक्रम का शुभारंभ किया तत्पश्चात् पुलिस की टुकडियों ने मार्च पास्ट किया। मार्च पास्ट के उपरांत संास्कृतिक कार्यक्रम का आरंभ हुआ। जिसमें जिले के विभिन्न विद्यालयों के बच्चों ने अपनी-अपनी प्रस्तुति दी। न्यू हैप्पी पब्लिक स्कूल यमुनानगर के  बच्चों की प्रस्तुति ‘आशादी के परवाने’ में बच्चों ने क्रंातिकारी मंगलपांडे, झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई व आशादी के दीवाने राजगुरू, सुखदेव व भगतसिंह के चरित्रा की मार्मिक प्रस्तुति कर सभी को उनके अमर  बलिदानों की याद दिला दी। इस प्रस्तुति को देखकर सभी की आँखें नम हो गई। इस प्रस्तुति को शानदार विजय प्राप्त की।
राज्यपाल श्री कप्तान सिंह सोलंकी ने बच्चों की प्रस्तुति की बहुत सराहना की व उन्हें ट्रापफी एवं पुरस्कार देकर सम्मानित किया। उन्होंने विद्यालय की सराहना करते हुए प्रधनाचार्या डॉ. बिन्दु शर्मा को बधई दी व बच्चों में देशभक्ति की भावना भरने व उनके उचित मार्गदर्शन की प्रशंसा की।
स्कूल प्रबंधक श्री जी.एस.शर्मा ने सभी को इस शानदार उपलब्ध् िपर बधई दी और कहा कि हमें यह स्वतंत्राता अनेक बलिदानों के बाद प्राप्त हुई है, इसे संभाल कर रखना हर देशवासी का कर्तव्य है। जिस आजाद देश में हम अमन से रह रहे है उसके लिए लाखों कुर्बानियाँ हुई है और बताया कि कुछ भी पाने के लिए संघर्ष करना पड़ता है। जीवन के मार्ग में आने वाली बाधओं से हमें घबराना नहीं चाहिए बल्कि हिम्मत और साहस से उनका सामना करना चाहिए।
स्कूल प्रधनाचार्या डॉ. बिन्दु शर्मा ने बच्चों की शानदार प्रस्तुति पर अपनी प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि यह हमारे लिए अत्यंत गौरव का अवसर हैै। हमें इसी तरह मिलजुल कर सभी पर्व मनाने चाहिए। आजादी के इस पर्व पर हमंे नहीं भूलना चााहिए कि यह आजादी उन वीरों की देन है जिन्होंने स्वतंत्रता की बलिवेदी पर हँसते-हँसते अपने प्राणों की आहुति दे दी। हम उन वीरों को शत्-शत् नमन करते है तथा हम प्रण करते हैं कि अखण्ड भारत की रक्षा के लिए हमें अपने प्राण भी न्योछावर करने पड़े तो हम पीछे नहीं हटेंगे तथा तिरंगे की आन, बान व शान को सदा बनाए रखेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here