जीने की उम्मीद छोड चुके दंपति 2 घंटे तक नदी के बहाव में फंसे रहे, युवक ने बचाया

3310
yamunanagar hulchul som nadi mein ufaan

खिजराबाद/यमुनानगर। जाको राखे सांईयां मार सके ना कोए, यह कहावत चरितार्थ हुई है क्षेत्र के गांव शहजादवाला में स्थानीय नदी को पार कर अपने घर जाते समय नदी में आए अचानक तेज बहाव में पति पत्नी फंस गए जिनको ग्रामीणों की मदद से बाहर सकुशल निकाला गया. लगभग दो घंटे तक मौत से जूझते रहने के बाद कार से सकुशल निकलते ही दंपति से राहत की सांस ली और भगवान का धन्यवाद किया।
इस नदी में इसी जगह पहले भी एक युवक के पानी के तेज बहाव में बहने से मौत हो चुकी है. पानी का बहाव तेज होने से बाईक और शव लगभग दो किलामीटर दूर मिले थे. बीती रात हुई घटना में कार भी घटना स्थल से लगभग आधा किलोमीटर दूर मिली। जीने की उम्मीद छोड चुके दंपति को गांव के ही युवक ने बाहर निकाला। खिजराबाद पुलिस को भी इस बारे सूचना दी गई और मौके पर पहुंचे थाना प्रभारी लज्जा राम अपनी टीम के साथ रस्से लेकर पहुंचे लेकिन तब तक ग्रामीणों की मदद से दंपति को बाहर निकाला जा चुका था. घटना उस समय घटित हुई जब रात के समय बरसात में सभी अपने घरों में आराम से सो रहे थे ा रात के समय दंपति को तो बाहर निकाल लिया गया लेकिन अंधेरा और बरसात होने से कार को अगले दिन नदी में पानी का बहाव कम होने पर ग्रामीणों और टै्र1टर की मदद से बाहर निकाला गया ा
वीडियो देखने के लिए क्लिक करें :

मिली जानकारी के अनुसार शहजादवाला निवासी प्रवीन अपनी पत्नी कविता के साथ किसी काम से खिजराबाद आया हुआ था ा खिजराबाद से अपने काम निपटाने के बाद रात को लगभग नौ बजे वह अपने घर वापिस जाने लगा तो गांव में किसी से नदी में पानी आने और ना आने के बारे में पूछकर और नदी में पानी ना आने की सूचना मिलने पर घर के लिए मेघूवाला की ओर से रवाना हो गया ा रात लगभग सवा नौ बजे के आसपास जब वह मेघूवाला से शहजादवाला जाने के लिए कार सहित नदी में उतरा तो चिक्कन और बनियांवाला की ओर से दो नदियों का पानी नदी में अचानक आ गया और कार बीच रास्ते में ही फंस गई ा प्रवीन ने कार को निकालने की बहुत कोशिश की लेकिन नदी में पानी आने से रास्ता संकरा और मिटटीयुक्त हो गया जिससे कार रास्ते से नही निकल सकी और वहीं फंस गई ा कुछ ही पलों में नदी में पानी का बहाव तेज होता चला गया और कार के टायर पानी में डूब गए ा दंपति कार के शीशे ऊपर चढाकर अंदर ही बैठ गए और गांव में अपने दोस्त जगीर को फोन पर सूचित किया कि वह अपनी पत्नी सहित नदी के बीच में फंस गए हैं और नदी में पानी का बहाव तेज हो गया है ा लगभग दस मिनट बाद पानी का बहाव इतना तजे हो गया कि कार के शीशे तक पानी आ गया और कुछ ही मिनटों में कार पानी में डूब गई ा नदी में मदद लेकर पहुंचे जगवीर को प्रवीन का कहीं पता नही चला और वह फोन से संपर्क करने लगा ा प्रवीन अपने दोस्त जगवीर को अपनी लोकेशन बताता लेकिन जगवीर को रात के अंधेरे में कार का नदी में कहीं पता नही चला ा जगवीर बैटरी लेकर कभी नदी के इस कोने पे जाता तो कभी दूसरे कोने पर ा अगले दो घंटे तक कार में पानी में ही डूबी रही और अंदर बैठे दंपति की सांसे थमी रही कि आज वे ङ्क्षजदा नही बचेंगें ा कार के निचले हिस्से से पानी कार में अंदर घुस गया और कार के अंदर पानी दंपति के गले तक आ पहुंचा ा किसी तरह नदी में रात को पानी कम हुआ और कार की जलती हुई लाईटों से ग्रामीणों ने कार की लोकेशन का पता चला तो गांव के ही युवक जगवीर सिंह ने अपनी जान की परवाह किए बिना ही रात को नदी में रस्से के सहारे उन तक पहुंचा और कार में से दोनों को सकुशल बाहर निकाला ा
मुश्किल हालात में फंसे दंपति की दो घंटे की कहानी उन्ही की जुबानी:
जब मौत किसी के सामने आए तो इंसान अपने भगवान को याद करता है और प्रार्थना करता है कि उसके द्वारा किए गए सभी अच्छे बुरे कर्मों को माफ करना ा प्रवीन ने बताया कि जब तक वह अपनी पत्नी के साथ कार में फंसा रहा तब तक वह अपनी पत्नी को सांत्वना देता रहा कि राम का नाम ले और भगवान पर भरोसा रख उन्हें कुछ नही होगा ा
८;४५ पर प्रवीन ने कार को मेघूवाला से घर जाने के लिए नदी में उतारा ,८;४७ पर प्रवीन की कार नदी के बीच में फंस गई,८;५० पर पानी का बहाव नदी में तेज हो गया,९;०० बजे तक प्रवीन अपने स्तर पर कार को निकालने का प्रयास करता रहा,९;०५ मिनट पर प्रवीन ने अपने दोस्त जगवीर को फोन पर सूचना दी,९;१५ मिनट पर जगवीर नदी के किनारे पर पहुंचा,लगभग १०;०० बजे तक भी जगवीर को दोनों का कोई पता नहीं चला और प्रवीन व उसकी पत्नी कार के अंदर बैठे रहे ा प्रवीन ने बताया कि उसकी पत्नी काफी डर गई थी और घबरा कर कुछ भी बोलने को तैयार नही थी ा प्रवीन ने बताया कि उसकी पत्नी रोने लग गई और अपने बच्चों व घरवालों को याद करने लगी ा प्रवीन ने बताया कि वह उसको हौंसला देता रहा कि घबराओं मत हमें कुछ नही होगा ा भगवान पर भरोसा रखो ।
फरिश्ता बनकर आया जगवीर सिंह—-प्रवीन ने बताया कि रात लगभग १०;२० मिनट के आसपास जब जगवीर उनकी कार के पास आया तो दंपति ने राहत की सांस ली और जब लगा कि अब वे बच जाएंगे ा कार के पास पहुंचे जगवीर ने दोनों को बाहर निकालने की कोशिश की लेकिन पानी का बहाव तेज होने की वजह से वह उन्हें उस समय नही निकाल पाया ा कुछ देर बाद जगवीर सिंह दोबारा से उनके पास मदद लेकर पहुंचा जिससे वह दोनों को सकुशल बाहर निकाल लाया ा
वहीं,
खानूवाला नगली रोड पर बाढ़ के पानी से लोगों को करना पड रहा है भारी परेशानी का सामना।
बाढ के पानी से लोगों के साधन पार निकलवाने में चिंतपुर,मानीपुर,ललहाडी कलां व जोगीवाडा के युवा मिलकर कर रहे है लोगों की मदद.
yamunanagar hulchul som nadi mein ufaan
कल पहाडों में हुई भारी बारिश के कारण आई बाढ ने खानूवाला में आवाजाही अवरुद्ध कर दी।लोगों को अपने गंतव्य पर जाने में भारी परेशानी का सामना करना पडा। कल सारा दिन हुई मूसलाधार बारिश के कारण खानूवाला-नगली रोड जो कि पहले से ही खस्ता हालत में है वहां पर खानूवाला में स्थिति और भी खतरनाक हो गई वहां पर मुख्य मार्ग ने नदी का रूप धारण कर लिया,आने जाने वाले यात्री बहुत परेशान होते रहे। काफी यात्री तो जल के बहाव के कारण बेबस नजर आए।जल के तेज प्रवाह के कारण कई लोगों की बाइक पानी में बहती नजर आए।
खानूवाला नगली रोड पर बाढ़ के पानी से लोगों को परेशान देखकर चिंतपुर,मानीपुर,ललहाडी कलां व जोगीवाडा के युवा मिलकर लोगों की मदद के लिए आगे आए। बाढ के पानी से लोगों के साधन पार निकलवाने में उन्होने लोगों की मदद करने के लिए टोलियां बनाकर तेज बहाव में खडे होकर लोगों के साधन पार करवाने में जुटे रहे।कभी लोगों की कार बाइक को धक्का देकर पार करवाते तो कभी स्वयं लोगों के साधनों को पार कर रहे थे।सुबह से ही चिंतपुर,मानीपुर,ललहाडी कलां व जोगीवाडा के युवा मिलकर लोगों की मदद में जुटे हुए है जो कि अभी भी अपनी सेवाएं दे रहे है।साथ ही अन्य ग्रामीणों ने भी मदद के लिए मोर्चा संभाला हुआ है। इन युवाओं व ग्रामीणों की निस्वार्थ भाव से सेवा को देखकर सभी उनकी प्रशंसा कर रहे है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here