सीएम बोले : बाढ़ से हुए फसली नुक्सान का स्पेशल गिरदावरी करवाकर दिया जायेगा मुआवजा

383
हथनीकुंड बैराज और आसपास के इलाको का हवाई सर्वेक्षण कर बाढ़ का जायजा लेते मुख्यमंत्री हरियाणा मनोहर लाल खट्टर
हथनीकुंड बैराज और आसपास के इलाको का हवाई सर्वेक्षण कर बाढ़ का जायजा लेते मुख्यमंत्री हरियाणा मनोहर लाल खट्टर
चंडीगढ़/यमुनानगर: हरियाणा मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने वीडियो कॉन्फ्रैंस के माध्यम से प्रदेश के जिला उपायुक्तों को आदेश दिए कि प्रदेश में जहां जहां बरसात से नुकसान हो रहा है वहां स्पेशल गिरदावरी की जाए और जिन-जिन किसानों का नुकसान होगा उनको फसल बीमा योजना और अन्य तरीकों से मुआवजा दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने यह आदेश आज प्रदेश में हो रही है बरसात और यमुना नदी  में आए अतिरिक्त पानी के मद्देनजर ली गई बैठक के दौरान उपस्थित अधिकारियों को दिए।
बैठक के दौरान उपायुक्त गिरीश अरोडा ने बताया कि उन्होंने किसी भी समस्या से निपटने के लिए अपनी पूरी तैयारी कर रखी है। उन्होंने बताया कि हरियाणा के मुख्यमन्त्री ने आज दोपहर में हथनी कुण्ड बैराज व यमुना नदी के समीप लगते गांवों का हवाई सर्वेक्षण किया। उन्होंने बताया कि आबादी क्षेत्र में पानीं कहीं भी नहीं आया केवल लापरा गांव में पानी आया, जिसके लिए जिला प्रशासन की ओर से लोगों को सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाने के लिए रोडवेज की  दो बसें, खाने के पैकेट आदि उपलब्ध करवाए गए। बरसात के पानी से बचाव हेतू लोगों के लिए र्थमल प्लांट की कालोनी में राहत शिविर बनाया गया। कुछ ग्रामीणों ने गांव से जाने के लिए मना करने पर डीडीपीओ, डीएसपी, तहसीलदार आदि अधिकारियों के माध्यम से गांव में ही खाने के पैकेट व पीने के पानी के लिए टंैकर की व्यवस्था की गई। उन्होंने बताया कि उक्त गांवों की पशुओं को भी सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने की उचित व्यवस्था की गई। उन्होंने बताया कि यमुना नदी में 29 जुलाई को सांय 7.00 बजे एक लाख 10 हजार 298 क्यूसिक पानी चल रहा है, जोकि खतरे के निशान से काफी कम है।
उपायुक्त ने जिला के सिंचाई विभाग, पंचायत विभाग, राजस्व विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वह अपने-अपने क्षेत्रों का दौरा कर लोगों की समस्याओं का समाधान करें। उन्होंने सिविल सर्जन को निर्देश दिए कि जिन गांवों में पानी आया था, उन गांवों में डाक्टरों की टीम द्वारा दवाइयां उपलब्ध करवाएं। उन्होंने बिजली विभाग के अधिकारी को निर्देश दिए कि दुर्घटना से बचने के लिए बिजली की लाईनों आदि की जांच करवाते रहें। उन्होंने जन स्वास्थ्य विभाग के कार्यकारी अभियन्ता को निर्देश दिए कि सभी लोगों के लिए स्वच्छ पेयजल उपलब्ध करवाने के लिए आवश्यक कार्यवाही करें। उन्होंने पीडब्ल्यूडी व मार्किटिंग बोर्ड के कार्यकारी अभियन्ता को निर्देश दिए कि जहां पर सड़कें टूटी हैं उनकी मुरम्मत करें व जहां पर बर्म टूटे हैं वहां पर मिट्टïी के कट्टïे रखवाना सुनिश्चित करें। उन्होंने सिंचाई विभाग के कार्यकारी अभियन्ता को निर्देश दिए कि बाढ़ बचाव के तहत जो भी कार्य करवाए गए हैं उन्हें स्वयं चैक करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here