नोटबंदी को लेकर जनता में रोष

13
यमुनानगर।  शुक्रवार को कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री राहुल गांधी जी के निर्देशानुसार और हरियाणा कांग्रेस के अध्यक्ष डॉक्टर अशोक तंवर के कुशल मार्गदर्शन में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा काले धन को सफेद करने की धूर्त स्कीम व  क्रूर षड्यंत्र के तहत कुछ पूंजी पतियों को लाभ पहुंचाने के लिए जो नोट बंदी का जनविरोधी फैसला आज ही के दिन 2 साल पहले लिया गया उसके विरोध में हरियाणा प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर धरना प्रदर्शन प्रातः 11:00 बजे से 1:00 बजे तक किया गया जिला यमुनानगर में यह प्रदर्शन अनाज मंडी गेट डीसी ऑफिस के सामने हुआ इस प्रदर्शन की अगुवाई यमुनानगर जिला के प्रभारी ओमप्रकाश देवी नगर ने की इस मौके पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा नोटबंदी का रातो रात जो फैसला लिया गया वह देश को बर्बाद करने का कदम था। प्रधानमंत्री ने बिना सोचे समझे अचानक जो तुगलकी फरमान सुनाया उससे देश की आर्थिक व्यवस्था बहुत कमजोर हुई।
देश में बेरोजगारी की जो समस्या थी उसने नोटबंदी के बाद भयानक रूप ले लिया। प्रधानमंत्री कहते थे कि हर साल दो करोड रोजगार युवाओं को दिये जाएंगे लेकिन करीब एक लाख 35 हजार रोजगार ही भाजपा सरकार दे पाई। नोटबंंदी के इस जनविरोधी फैसले से चार लाख लोग अपनी नौकरी से हाथ धो बैठे और 50 लाख लोगों का व्यापार खत्म हो गया, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा था कि मुद्रा स्थिति की दर दो प्रतिशत गिरेगी। वह सभी ने देखा कि नोटबंदी के बाद हालात कैसे हुए। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का कथन यह भी सत्य साबित हुआ कि योजना के तहत जो नोटबंदी की गई है, वह देश के लोगों के साथ योजनाबद्ध लूट थी। देश का 99.3 प्रतिशत धन वापिस आ गया, और ढेड लाख करोड नकली नोट वापिस आए। अगर उसे जोड दिया जाए तो प्रचलन में जो नोट थे, उससे ज्यादा नोट वापिस बैंकों में आ गए और दो हजार रूपये का नया नोट आने पर नकली नोटों का प्रचलन 18 प्रतिशत बढा है। प्रधानमंत्री ने वायदा किया था कि मुझे सिर्फ पचास दिन दे दे, देश का काला धन वापिस आ जाएगा, लेकिन भाजपा को सत्ता में आए साढे चार साल हो गए, आज तक काला धन देश में वापिस नहीं आ सका। जिससे साफ जाहिर होता है कि देश के प्रधानमंत्री किस प्रकार लोगों को गुमराह कर रहे है। प्रधानमंत्री ने यह भी यह भी कहा था कि आंतकवादियों को धन जाना बंद हो जाएगा और आंतवाद की गतिविधियों कम होगी, लेकिन हालात पहले से भी बदतर हुए है। प्रधानमंत्री ने वादया किया था कि भ्रष्ट्राचार देश से खत्म होगा, लेकिन भाजपा की पूरी सरकार पूजिपंतियों के सामने घुटने टेक कर खडी हुई है। आज देश को अंबानी व अडानी चल रहे है और भाजपा घोटालों की सरकार साबित हुई। इस धरना प्रदर्शन का नेतृत्व
हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव  भूपेद्र सिंह राणा ने किया इस मौके पर बोलते हुए भूपेंद्र राणा ने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा रातो रात लिए गए नोटबंदी के इस फैसले ने देश में व्यापार को बिल्कुल खत्म कर दिया है  आज इस जनविरोधी फैसले को लिए हुए 2 साल हो गए हैं परंतु आज भी व्यापार अपनी पटरी पर नहीं आप पा रहा है देश का व्यापारी इस रातो रात लिए हुए फैसले से बहुत ही परेशान हैं और राफेल विमान घोटाला आज भी जीवित है, इस पर  प्रधानमंत्री क्यों नहीं बोल रहे है। क्योंकि राफेल का इतना बडा घोटाला देश में किया गया है। सीबीआई केवल एक दूसरे पर मामले दर्ज कर रही है। सारी सार्वजनिक संस्थाओं को बर्बाद करने का काम भाजपा सरकार ने किया है। अगर नोटबंदी से देश को फायदा हुआ होता तो आज आरबीआई के रिजर्व फंड के ऊपर सरकार की निगाह न  होती जिसकी खबर आरबीआई गवर्नर को लगते ही उन्होंने ने इस्तीफे की धमकी दी और सरकार के सामने  एक बार फिर टकराव की स्थिति उत्पन्न हो गई। आरबीआई के गवर्नर व डिप्टी गवर्नर ने कहा कि जो रिजर्व फंड है उसे देश के सामने जब कोई बढ़ा आर्थिक संकट खडा होता है तब उसका प्रयोग किया जाता है जैसा एक बार चीन युद्ध के समय आर्थिक संकट आने पर इसका इस्तेमाल किया गया था, इसके अलावा कभी किसी सरकार ने उसकी तरफ निगाह नही की। 1990 में चंद्रशेखर सरकार ने देश का सोना गिरवी रख दिया था, तब भी आरबीआई रिजर्व नहीं छेडा गया था। तब भी जो नए इकनोमिक्स रिफोरमस आए  थे, वह भी पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह जी की देन थी सरदार मनमोहन सिंह जी ने उस आर्थिक परिस्थितियों के संकट से देश को बाहर निकाला था। इस मौके सतपाल कौशिक, केहर सिंह झंडा, सुरेश कॉनहडी  विरेंद्र चौहान, छोटे लाल, डॉक्टर सरवन, शिवकुमार बडेडी, बलवान सिंह चेयरमैन, रविंद्र बबलू, रूपेंद्र राणा, सुधीर राणा, विशाल टीनू, फारुख खान, इकराम खान, महावीर खुर्दी, जिया लाल, बचना सिंह नेगी, कृष्ण लाल टीनू, बलजिंदर फर्कपुर, प्रदीप मसाना, रूपचंद, रोहित शर्मा, सुशील कंबोज खुर्दी,  राम स्वरूप सरपंच, शांति प्रकाश EX मैनेजर, सुशील कंबोज खुर्दी, गुरनाम सिंह, इत्यादि अनेकों  लोग मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here